♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

रामकथा : राम-केवट संवाद सुनकर भावविभोर हुए श्रोता

बिलसंडा। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम वन जाने के लिए शृंग्वेरपुर गंगा घाट पर खड़े होकर केवट से नाव लाने को कहते हैं। लेकिन केवट मना कर देता है। “मांगी नाव न केवट आना, कहइ तुम्हार मरम मैं जाना”। घनश्यामपुर में चल रही श्रीराम कथा में पंडित पंकज मिश्र ने यह प्रसंग सुनाया तो सब भावविभोर हो गए।

पं• पंकज मिश्र ने कहा कि भगवान राम मर्यादा स्थापित करने को मानव शरीर में अवतरित हुए तो पिता की आज्ञा से वन के लिए चले। शृंग्वेरपुर घाट पर गंगा पार जाने को केवट से नाव मांगी। केवट बगैर भगवान का पैर धुले नाव पर बिठाने को तैयार नहीं होता।

रिपोर्ट-रजत मिश्रा

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

क्या भविष्य में ऑनलाइन वोटिंग बेहतर विकल्प हो?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close
Website Design By Mytesta.com +91 8809666000