♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

एसडीएम ने किया धान सेंटरों का निरीक्षण, कम खरीद पर जताई नाराजगी

घुंघचाई। साधन सहकारी समिति के क्रय केंद्रों के अलावा क्षेत्र के विभिन्न क्रय केंद्रों पर उप जिलाधिकारी ने पहुंच कर औचक निरीक्षण किया जहां पर कम खरीद पाई गई उस पर उन्होंने नाराजगी जताते हुए खरीद बढ़ाने के दिशा लिसन दिए वही उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि प्रत्येक एक क्रय केंद्र पर 600 से 500 तक की खरीद केंद्र प्रभारी द्वारा की जाएगी जिससे केंद्र प्रभारियों में खलबली मच गई किसानों ने बारदाना ना होने की समस्या से भी अवगत कराया। शासन एक और जहां काश्तकारों को समर्थन मूल्य देने के लिए भरसक प्रयास कर रहा है ईश्वर प्रशासन के बड़े अधिकारी लगे विभिन्न जगह क्रय केंद्रों पर औचक निरीक्षण कर रहे हैं जिससे व्यवस्था को ढर्रे पर लाया जाए लेकिन फिर भी कछुआ गति से धान की खरीद की जा रही है गुरुवार को उप जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने घाटमपुर साधन सहकारी समिति के अलावा घुंघचाई समिति का औचक निरीक्षण किया और केंद्र प्रभारियों को विशेष रुप से हिदायत देते हुए कहा कि आप लोग या तो खरीद का पैमाना बढ़ाएं नहीं तो यह क्रय केंद्र मंडी में ले जाने के लिए प्रशासन मजबूर होगा जिसका किसानों ने विरोध किया और कहा कि साहब यहां पर व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं और बारदाना क्रय केंद्र को विभाग के द्वारा उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है जिससे कई समस्याएं आ रही हैं वहीं उठान की व्यवस्था पर भी लोगों ने प्रश्नचिन्ह लगाए क्रय केंद्र प्रभारी को निर्देशित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रतिदिन 600 कुंटल की धान की खरीद सुनिश्चित होनी चाहिए जिस पर सभी काश्तकारों ने भी सहमति जताते हुए कहा कि अभी तक एक कांटा चल रहा था जिससे या सुलभ नहीं है।

मजदूरों की संख्या बढ़ाकर के धान की खरीद को बेहतर तरीके से बढ़ाया जाए सभी किसान इस बात पर सहमत भी हुए कि जो भी हमसे सहयोग की आवश्यकता है हम करने के लिए तैयार हैं इस दौरान उप जिलाधिकारी क्षेत्र के अन्य विभिन्न केंद्रों पर भी पहुंचे जहां उन्होंने कम खरीद किए जाने पर नाराजगी व्यक्त की और कार्रवाई की चेतावनी दी जिससे क्रय केंद्र प्रभारी हलकान हो गए किसान चाहता है कि उसकी खून पसीने की कमाई का बेहतर समर्थन मूल्य उसे मिल जाए शासन और प्रशासन इस विषय पर विशेष ध्यान दें। रिपोर्ट-लोकेश त्रिवेदी

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

क्या भविष्य में ऑनलाइन वोटिंग बेहतर विकल्प हो?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close
Website Design By Mytesta.com +91 8809666000