♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

पत्रकार की शिकायत पर हरकत में आया प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया, 2 सप्ताह में मांगा जबाब

मुख्य सचिव, डीजीपी, पुलिस अधीक्षक साहित अन्य को नोटिस जारी कर दो सप्ताह में मांगा लिखित वक्तव्य

पूरनपुर। हिन्दी दैनिक आज पूरनपुर के पत्रकार शादाब अली व छायाकार शोएब अहमद उर्फ फूलबाबू के खिलाफ समाचार प्रकाशित किए जाने से क्षुब्ध होकर समाचार से संबंधित प्रधान की तहरीर पर मिलीभगत के चलते उत्तर प्रदेश की कोतवाली पूरनपुर पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज करने के मामले में अब ‘प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया’ (PCI) हरकत में आ गया है। इस मामले में ‘प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया’ ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव, सचिव गृह विभाग (पुलिस), पुलिस महानिदेशक, पुलिस अधीक्षक पीलीभीत व संबंधित ग्राम प्रधान को नोटिस जारी किया है। इस नोटिस के अनुसार, प्रथमदृष्टया यह पाया गया है कि प्रेस की स्वतंत्रता पर कुठाराघात किया गया है। ‘प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया’ की ओर से जारी इस नोटिस में दो हफ्ते में लिखित जवाब देने के लिए कहा गया है। बता दें कि पत्रकार शादाब अली ने गत 17 मई को तहसील पूरनपुर अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत गहलुईया के नवनिर्वाचित प्रधान मोहम्मद इमरान खान पुत्र हाफिज सितारूद्दीन खान द्वारा चुनाव जीतने के बाद गौकशी कर समर्थकों व ग्रामीणों की दावत किये जाने संबंधित समाचार शीर्षक- (चुनाव जीतने की खुशी में समर्थकों व ग्रामीणों को दावत में प्रधान ने खिलाया गौवंशीय पशु का मांस) प्रकाशित किया था, जिस के संबंध में कोतवाली प्रभारी निरीक्षक से वर्जन भी लिया गया था। बताते चलें कि संबंधित उक्त समाचार अन्य कई समाचार पत्रों में भी प्रकाशित हुआ। इस प्रकाशित समाचार से उक्त ग्राम प्रधान व उसके सहयोगी क्षुब्ध थे और पत्रकार शादाब अली को लगातार अंजाम भुगतने की धमकी दे रहे थे। यह पूरा प्रकरण पुलिस प्रशासन के संज्ञान में था। इसके बावजूद भी पुलिस ने उक्त ग्राम के प्रधान मो0 इमरान खां पुत्र सितारुद्दीन खां से प्राप्त तहरीर पर बिना किसी जांच अथवा साक्ष्य के पत्रकार शादाब अली व छायाकार शोएब अहमद उर्फ फलबाबू के विरुद्ध कोतवाली पुलिस ने निराधार, मनगढ़ंत व बदले की भावना से मुकदमा दर्ज कर लिया था जोकि नितांत फर्जी मनघडंत व सच्ची पत्रकारिता का दमन कर गौकशी के मामले में स्वयं को साफ बचाने की नियत से किया जाने बाला था। पत्रकार शादाब अली का आरोप है कि ग्राम प्रधान मोहम्मद इमरान खान व पुलिस अपनी नाकामियों को उजागर करने वाले खबरों से नाराज थे और सच्चाई की आवाज दबाने के लिए उनके ऊपर फर्जी मुकदमा दर्ज करवाया गया था। अपने उत्पीड़न से परेशान पत्रकार शादाब अली ने ‘प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया’ से आरोपियों पर कार्यवाही किये जाने की गुहार लगाई थी और पूरे मामले की लिखित शिकायत की थी। इस पर अब ‘प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया’ ने संज्ञान लिया है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

क्या भविष्य में ऑनलाइन वोटिंग बेहतर विकल्प हो?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close
Website Design By Mytesta.com +91 8809666000