♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

चारे का विकल्प : घुँघचाई के गांव से हजारा भेजी गई 8 ट्राली पराली

घुंघचाई। पर्यावरण प्रदूषण पर अंकुश लगे इसको लेकर के धान की पराली ना जले शासन गंभीर है। प्रशासनिक अफसरों ने ग्रामीणों के बीच पहुंच कर पराली न जलाने के लिए कई बैठकें कीं। अब इसको एक नया आयाम दिया जा रहा है। बीते दिनों भारी  बरसात व बाढ़ से हजारा और शारदा के किनारे बड़े पैमाने पर एक और जहां धान गन्ना सहित कई फसलें बर्बाद हो गई और मवेशियों के लिए खाने को कुछ नहीं है। उनकी जीविका के लिए प्रशासन की पहल पर ग्राम पंचायत नारायनपुर से ग्राम प्रधान की अगुवाई में एसडीएम रामस्वरूप में 8 ट्रैक्टर ट्राली से धान की पराली भिजवाई। इस दौरान कई जगह छिटपुट जगह लोग पराली फूंकते देखे गए तो उन्हें समझाया गया कि पूरे खेत से पराली हटा ली लेकिन कुछ पराली को क्यों नहीं हटाया। ग्रामीणों को समझाने के दौरान उन्होंने कहा कि यह सब पर्यावरण के लिए काफी दुष्प्रभावी भी है। हमने इस संबंध में खुद ग्राम प्रधान कंधई सिंह और एसडीएम रामस्वरूप से उनके विचार जाने। लिंक पर क्लिक करके सुनें-

https://youtu.be/41JRa3pCM_4

उन्होंने बताया कि मवेशियों को भी पराली के रूप में शारदा के किनारे जहां बड़ा नुकसान हुआ है वहां पर पहुंचने से समस्या का निदान होगा। इस दौरान वहां पर प्रमुख रूप से गंगाराम, महेश कुमार, त्रिलोक सिंह, हरिओम सिंह, चरण सिंह, विशंभर सिंह सहित कई प्रमुख लोग मौजूद रहे। इस कार्य को लोगों ने भी काफी सराहा। रिपोर्ट-लोकेश त्रिवेदी।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

क्या भविष्य में ऑनलाइन वोटिंग बेहतर विकल्प हो?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close
Website Design By Mytesta.com +91 8809666000