♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

आज नहीं 15 जनवरी को है मकर सक्रांति, पण्डित अनिल शास्त्री से जानें मनाने का तरीका

*🕉️ मकर सक्रांति 🕉️*
*15 जनवरी 2023 रविवार*

आचार्य अनिल शास्त्री शिव शक्ति धाम देवालय के द्वारा प्रस्तुत

*इस साल मकर संक्रांति का त्यौहार 15 जनवरी 2023 रविवार के दिन मनाया जाएगा।*

ये सूर्य की उपासना का पर्व है, सूर्य के धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करने पर खरमास की भी समाप्ति हो जाती है और सभी मांगलिक कार्य शुरू हो जाते हैं।
पुराणों के अनुसार मकर संक्रांति से सूर्य उत्तरायण होते हैं और ऐसे शुभ संयोग में मकर संक्रांति पर स्नान, दान, मंत्र जप और सूर्य उपासना से अन्य दिनों में किए गए दान-धर्म से अधिक पुण्य की प्राप्ति होती है।।

*🔯आइए जानते हैं मकर संक्रांति का पुण्य और महापुण्य काल समय-:*

*सूर्य का मकर राशि में प्रवेश-:*
14 जनवरी 2023 शनिवार को
रात 20. 45 पर मकर राशि में प्रवेश करेंगे।

*पुण्य काल‌ का समय-:*
15 जनवरी 2023 रविवार,
सुबह 06:00 si- शाम 06:00 तक

*महा-पुण्य काल का समय-:*
15 जनवरी 2023 रविवार,
सुबह 06:00 – सुबह 11:30 तक

अवधि – 05 घण्टा 30 मिनट

*🔯 पुण्य-महापुण्य काल का महत्व-:*
मकर संक्रांति पर पुण्य और महापुण्य काल का विशेष महत्व है. धार्मिक मान्यता है कि इस दिन से स्वर्ग के द्वार खुल जाते हैं. मकर संक्रांति के पुण्य और महापुण्य काल में गंगा स्नान, सूर्योपासना,दान, मंत्र जप करने व्यक्ति के जन्मों के पाप धुल जाते है।

*स्नान—:*
मकर सक्रांति वाले दिन सबसे पहले प्रातः किसी पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए, यदि यह संभव ना हो सके तो अपने नहाने के जल में थोड़ा गंगाजल डालकर स्नान करें।।

*सूर्योपासना—:*
प्रातः स्नान के बाद उगते हुए सूर्य नारायण को तांबे के पात्र में जल, गुड, लाल पुष्प, गुलाब की पत्तियां, कुमकुम, अक्षत आदि मिलाकर जल अर्पित करना चाहिए।

*गायत्री मंत्र जप–:*
सूर्य उपासना के बाद में कुछ देर आसन पर बैठकर गायत्री मंत्र के जप करने चाहिए, अपने इष्ट देवी- देवताओं की भी उपासना करें।।

*गाय के लिए दान—:*
पूजा उपासना से उठने के बाद गाय के लिए कुछ दान अवश्य निकालें जैसे- गुड, चारा इत्यादि।

*पितरों को भी करे याद-:*
इस दिन अपने पूर्वजों को प्रणाम करना ना भूलें, उनके निमित्त भी कुछ दान अवश्य निकालें।
इस दिन पितरों को तर्पण करना भी शुभ होता है। इससे पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

*गरीब व जरूरतमंदों के लिए दान-:*
इस दिन गरीब व जरूरतमंदों को जूते, चप्पल, (चप्पल-जूते चमड़े के नहीं होने चाहिए) अन्न, तिल, गुड़, चावल, मूंग, गेहूं, वस्त्र, कंबल, का दान करें। ऐसा करने से शनि और सूर्य देव की कृपा प्राप्त होती है।।

*परंपराओं का भी रखें ध्यान-:*
मकर सक्रांति का त्यौहार मनाने में अलग-अलग क्षेत्रों में अलग- अलग परंपराएं हैं, अतः आप अपनी परंपराओं का भी ध्यान रखें। अर्थात अपने क्षेत्रीय रीति-रिवाजों के अनुसार मकर संक्रांति का त्यौहार मनाए।।

*गायत्री मंत्र-:*
इस साल मकर संक्रांति बेहद खास मानी जा रही है, क्योंकि रविवार और मकर संक्रांति दोनों ही सूर्य को समर्पित है। इस दिन गायत्री मंत्र जप व गायत्री हवन करना विशेष लाभकारी रहेगा।।

पण्डित अनिल शास्त्री, पुजारी शिव शक्ति धाम पूरनपुर।

————–

पण्डित राम अवतार शर्मा जी के छंदों में सुनें वर्णन

तेज पुंज प्रखर हैं जगत के प्राण सूर्य,
जिनके बिना है व्यर्थ जीवन की कामना।
निज रश्मियों से सरसाते हैं प्रकृति सदा,
तेज के समक्ष कौन करता है सामना।
गुरु गृह गये निज तेज को लिया समेट,
देवगुरु मान की उदग्र उद्भावना।
वन्दनीय अभिनन्दनीय सदा वासरेश,
आज चाहते हैं गुरुदेव गृह त्यागना।।1।।
गुरु गृह त्याग चले सुत के भवन आज,
अन्तरिक्ष में घटित घटना ललाम है।
दक्षिण अयन त्याग उत्तर अयन चले,
जग मध्य होने लगे उत्सव प्रकाम हैं।
तीर्थराज संगम पे जन समवेत हुये,
एक मास कल्पवास करते सकाम हैं।
वासर विधाता जगजीवन के दाता तुम्हें,
सादर विनम्र जन करते करते प्रणाम हैं।।

रचनाकार-पण्डित राम अवतार शर्मा, अध्यक्ष देवनागरी उत्थान परिषद।

 

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

क्या भविष्य में ऑनलाइन वोटिंग बेहतर विकल्प हो?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close
Website Design By Mytesta.com +91 8809666000