♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

कमरे में कुंडे पर लटका मिला विवाहिता का शव, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप

घुंघचाई। विवाहिता बंद कमरे की अंदर रस्सी के फंदे में झूमती पाई गई। मामले की जानकारी पर आस पड़ोस के लोग एकत्र हुए। घटनाक्रम की सूचना उसके मायके पक्ष को दी गई जिन्होंने मामले की सूचना पुलिस को देकर हत्या का आरोप लगाया है। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को उतार कर पंचनामा भर पीएम के लिए भेजा। घटनाक्रम से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। गांव घुंघचाई निवासी कालीचरन उर्फ कल्लू के पुत्र रामकुमार की शादी बीते ढाई वर्ष पूर्व खुटार थाना क्षेत्र के गांव गढयरिया रसूली निवासी रामचंद्र की पुत्री बरसा से हुई थी लेकिन मायके पक्ष के लोगों के अनुसार आए दिन उसकी पुत्री को दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता था।

रविवार को देर शाम संदिग्ध परिस्थितियों में ससुराल में वर्षा कमरे के अंदर कुंड में फांसी पर झूलती पाई गई। मामले की जानकारी मायके पक्ष के लोगों को आस-पड़ोस के लोगों ने दी। जिस पर घटनाक्रम की जानकारी डायल 112 को मायके पक्ष के लोगों ने दी तो पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने संबंधित अधिकारियों को घटनाक्रम से अवगत कराया और इस दौरान कोतवाल सुरेश कुमार सिंह, पुलिस क्षेत्राधिकारी व तहसीलदार विवेक कुमार मिश्र मौके पर पहुंचे। मृतका के शव को कुंडे से उतरवाया गया और पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए जनपद मुख्यालय भेजा गया। मृतका के पिता रामचंद्र का आरोप है कि उसकी पुत्री की हत्या की गई है। इस दौरान जब पुलिस मौके पर पहुंची  तो घर में ताला लगा हुआ था। पुलिस ने ताला खोलकर शव को अपने कब्जे में किया। मामले की सूचना पर तहसीलदार, कोतवाल व पुलिस क्षेत्राधिकारी पहुंचे। पीड़ित परिजनों ने आरोपितों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है। चौकी प्रभारी गौरव विश्नोई ने बताया कि मृतक का शव कमरे के कुंडे में लटका पाया गया है। जांच पड़ताल की जा रही है । मृत्यु किस तरीके से हुई है परिवार के लोगों की तहरीर के आधार पर मुकदमा पंजीकृत किया जाएगा।

शराब का विरोध करने पर होती थी मारपीट

घटना जहां हुई है उसके आस-पड़ोस के लोगों के अनुसार आए दिन पति पत्नी में विवाद होता था। पति शराब का आदी था और इसके विरोध पर आए दिन बवाल के बाद पत्नी के साथ मारपीट होती थी। हालांकि पति द्वारा ऐसा कृत्य नहीं किया गया है जैसा मायके पक्ष के लोगों ने गंभीर आरोप लगाए हैं। यह जांच का विषय है यह सब आस-पड़ोस के लोगों ने बताया।

रिपोर्ट-लोकेश त्रिवेदी

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

क्या भविष्य में ऑनलाइन वोटिंग बेहतर विकल्प हो?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Close
Close
Website Design By Mytesta.com +91 8809666000